Pakistani Buzkashi

buzkashi

अफगानिस्तान का एक खेल हुआ करता है जिस का नाम है “बुज़काशी” इस खेल में घोड़े पर सवार घुड़सवार एक मरी हुई भेड़ को फुटबॉल की तरह से खेलते है और जीतने वाला मरी भेड़ को जीत की निशानी के तौर पर सबको दिखाता है।

आज पाकिस्तान हमारे शहीदों के शरीर के साथ वही बुज़काशी खेल रहा है। और एक भी वामपंथी,उग्रपंथी और मानवता की बात करने वाले आगे आकर पाकिस्तान के घिनोनो कृत्यों की चर्चा नही कर रहे।

ये पाकिस्तान नही कसाइयों की मंडी है जहाँ बर्बरता की सीमा खत्म हो गई है।

पाकिस्तान के संवीधान में आदर्श और असूल नाम के शब्द नही हैं, अब तक तो आतंकवादी ही गोली मारने व बर्बरता से हत्या करने के वीडियो जारी करते थे लेकिन अब एक देश की सेना यह कर रही हैं।

एक और हमारी सेना पूरे आदर के साथ पाकिस्तानी सैनिकों के शव वापिस करती रही है लेकिन पाकिस्तान से ऐसी कोई भी उम्मीद करना सांप के मुँह से अमृत निकालने जैसा है।

1949 के जेनेवा कन्वेंशन के आर्टिकल 16 में ये साफ तौर पर लिखा है की सैन्य जरूरतों के अनुसार मारे गए लोगों के शव का सम्मान करना चाहिये व उसे सुरक्षित रखने के हरसंभव कदम उठाने चाहिये।

1977 के एडिशनल प्रोटोकॉल में भे आर्टिकल 34(1) के अनुसार संघर्ष में मारे गए बंदी या कब्ज़े में होने वाले पार्थिव शरीरों का उचित सम्मान करना चाहिए।

Crimes of War में वेन इलियट के स्पष्ट रूप से लिखा है की प्रथम जेनेवा कन्वेंशन के आर्टिकल 15 में घायलों की मदद व मृतकों के शरीर को खराब न होने देने की बात कही है।

Internationally Red Cross committee ने भी कहा है की घयलों के साथ मृतकों को भी वापिस लाया जाए जिससे मरने वाले लोगों के बारे में पता लग सके।

लेकिन पाकिस्तान इनमे से किसी नियम का पालन नही करता।

क्यो?

क्योंकि वो घाघ है ।इस तरह की घटनाएं एक सोची समझी कूटनीति है, इस प्रकार की घटनाओं के परिणाम स्वरूप दो प्रकार की प्रतिक्रियाएं होती हैं:-

■पहली देश की जनता व सेना विचलित होकर सरकार को दोष देने लगती है इससे देश की अंदरूनी व्यवस्था असंतुलित हो सकती है और ये देश के दुश्मनों की मंशा होती है। जब फौज व जनता सरकार से युद्ध के लिए दबाव बनाती है तो सरकार प्रेशर में आ जाती है।
प्रतिक्रिया ना करने की स्थिति में जनता गुस्से में अपने ही देश मे तोड़फोड़ व अस्थिरता पैदा कर सकती है उस स्थिति में बाहरी सीमा से ध्यान हटकर अंदुरूनी स्थितयों को कंट्रोल करने में लग जाता है और सीमा कमज़ोर होने की स्थिती में दुश्मन का कार्य आसान हो जाता है । यहाँ सिर्फ पाकिस्तानी ही दुश्मन नही बल्कि चीन भी उसके साथ मिला हुआ है। इस स्थिति में भारत को एक बड़े खतरे का सामना करना पड़ सकता है।

■दूसरी स्थिति ये होगी की ऐसी हरकतें करने पर भारत पाकिस्तान के खिलाफ युद्ध छेड़ दे। उस स्थिति में पाकिस्तान विश्व् के सामने अपनी रक्षा के लिए परमाणु हथियार भी इस्तेमाल कर सकता है जिसमे हमारे कुछ और दुश्मन भी साथ दे सकते हैं ।

हाँलाकि राज्यों द्वारा बल के उपयोग को रिवाज़ानुसार अंतराष्ट्रीय कानून व संधि कानून दोने से नियंत्रित किया जा सकता है।

लेकिन भारत के पहले हमला करने की स्थिति में पाकिस्तान को अंतराष्ट्रीय कानून में आत्म रक्षा के अनुछेदद के तहत आत्मरक्षा में किये गए परमाणु वार को उचित करार दिया जा सकता है।

पाकिस्तान को ये युति इस्तेमाल करने के लिए ये दिखाना ज़रूरी है की हमले की पहल भारत ने की।

भारत ने सन 2003 में *परमाणु हथियार का पहला उपयोग* No First Use या NFU . करने की अपनी नीति को व्यक्त किया था
सन 1998 में परमाणु परिक्षण के बाद भारत ने यह कहा की वो सिर्फ प्रतिशोध या प्रतिक्रिया की स्थिति में ही परमाणु हथियारों का उपयोग करेगा। इस स्थिति में यदि कोई पाकिस्तान पहले परमाणु हथियार चलाये या भारत के ये पता लगे की पाकिस्तान परमाणु हथियार दागने की तैयारी कर रहा है तो ही भारत परमाणु हथियार चलाएगा।

2010 में भारत के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार शिवशंकर मेनन ने बाद में इसे “गैर परमाणु हथियार राज्य के खिलाफ कोई भी पहला उपयोग ” में बदल दिया यानी यदि कोई गैर परमाणु शक्ति वाला राज्य युद्ध मे है तो भारत उसपर परमाणु हथियार नही प्रक्षेपित करेगा।

लेकिन यदि दूसरा राज्य भी परमाणु शक्ति से लैस है और वो भारत पर परमाणु हमला करने की तैयारी में है तो भारत परमाणु हथियार छोड़ सकता है।

हंमारी सेना के विशेषज्ञ कोई मूर्ख नही हैं ना ही हमारे युद्ध नीतियां। एक आम देशवासी व सेना का साधारण सिपाही इन नीतियों की गूढ़ता को नही समझ सकते।

युद्धनीति भावनाओं से या त्वरित आवेश से परे होती हैं। पाकिस्तान हमे गुस्सा दिलाने की हर सम्भव कोशिश कर रहा है उसे पता है की भारत की जनता खौल रही है।

यदि आप ध्यान दे तो पिछले कुछ समय से आतंकी आम जनता को छोड़कर सेना को और अर्धसैनिक बलों को निशांना बना रहे हैं !

क्यों???

आतंकवादी, पाकिस्तानी, उग्रवादी ,नक्सल व वामपंथी तरह तरह से सेना पर इसीलये हमला कर रहे हैं जिससे जनमानस में क्रोध जाग्रत हो ,सेना में गुस्सा भड़के।

इसी आवेश में या तो देश में तोड़फोड़ व दंगे की स्थिति पैदा हो या हंमारी सेना के अन्दर बिद्रोह की स्थिति पैदा हो जाये।

सेना को क्रोध दिलाकर बलवे की स्थिति पैदा करने की कोशिश की जा रही है।

इस षड्यंत्र में बहुत बड़ी बड़ी शक्तियां शामिल है यहां तक की सत्ताच्युत हुए नेता भी। आप लोग सोच भी नही सकते किस प्रकार की शक्तियां संगठित हो भारत के विरुद्ध ये षड्यंत्र रच रही है।

दुश्मन की चाल को समझिये व उतेजित होकर सरकार व सेना को कमज़ोर मत करिये। सेना को पता है उसे क्या करना है एक गलत फैसले से 125 करोड़ लोगों को दांव पर नही लगाया जा सकता।

हंमारी सेना ना तो चुप बैठी है ना ही हमने चूड़ियां पहन रखी है जिस घड़ी पाकिस्तान ने छोटा सा भी हमला किया हम लोग उसे नेस्तनाबूद कर देंगे। हंमारी फ़ौज तैयार है लेकिन हम पहले हमला कर पाकिस्तान की चाल में नही फंसेंगे।

इस समय सारा विश्व् भारत की ओर देख रहा है।

समाज मे फूट फैलने से रोके ….युद्ध की स्थिति में यह आम नागरिक का सबसे बड़ा कर्तव्य है को वो देश की स्थिरता व एकता बनाये रखने में सहयोग दे।

परमजीतसिंहप्रेमसागर की कुर्बानी व्यर्थ ना जाने पाये।
श्रद्धांजली व नमन इन शहीदों को

 

Our Individual Time Zone

time

 

कालः सुप्तेषु जागर्ति कालो हि दुरतिक्रमः ।
कालः सर्वेषु भूतेषु चरत्यविधृतः समः ।।

क्या आप जानते हैं म्यामार (बर्मा) भारत से एक घण्टे आगे है तो क्या हम कहेंगे भारत म्यामार से धीरे है ?
भारत ब्रिटेन से 4.30 घण्टा आगे है तो क्या ब्रिटेन भारत से पीछे रह गया है?

जी नही !!दिन का जो समय भारत मे आता है वही समय म्यामार में एक घंटा पहले था और वही समय ब्रिटेन में साढ़े चार घन्टो बाद होगा।

यानी हम सब अपने समय मे चल रहे हैं!!

किसी की शादी छुटपन में हो गई कोई अभी कुंवारा है किसी के बच्चे सालों तक नही होती किसी के एक साल में ही हो जाते हैं

कोई 22 साल की उम्र में पढ़ाई खत्म कर 30 साल तक नौकरी के इंतज़ार में बैठा है और कोई 30 साल की उम्र में पढ़ाई खत्म करते ही नौकरी पा जाता है।

कुछ लोग 20 साल की उम्र में फौज में जाते हैं और 35 साल पर रिटायर भी हो जाते हैं कुछ लोग 35 साल पर नौकरी शुरू करते है और 60 साल में रिटायर होते हैं।

एक जवान इंसान एक्सीडेंट में मर जाता है और एक बीमार बुढा 90 साल की उम्र तक जीता रहता है।

क्यों????

क्योंकी हम सब अपने समय के दायरे में चलते हैं। हम अपना जीवन सिर्फ अपने समय के परिपेक्ष्य में जी सकते हैं किसी दूसरे के नही।

कभी कभी आपको लगता होगा आपके मित्र, भाई बहन आपसे आगे निकल गए और कभी आप कुछ लोगों से आगे निकल गये वो इसलिये की हममे से हर एक के समय की गति अलग है।

हम सभी को जीवन मे अपने समय मे ,अपनी गति से और अपने मार्ग से चलना होता है। इश्वेर ने हम सब के लिए एक व्यक्तिगत खाका तैयार किया है जो किसी दूसरे से अलग है

हमारी गति अलग है हमारा समय अलग है।

मोदी जी 8 साल की उम्र से RSS में थे किंतु 50 साल की उम्र में पहली बार MLA फिर CM बने ,योगी जी 26 साल की उम्र में MP बन गए और 44 साल की उम्र में CM!!

राजीव गांधी 40 साल की उम्र में प्रधान मंत्री बने और 46 साल की उम्र में मर गए मोरारजी देसाई 81 साल की उम्र में प्रधानमंत्री बने और 99 साल की उम्र में मरे!!

55साल की उम्र में ओबामा रिटायर हो गये और 70 साल की उम्र में डोनाल्ड ट्रम्प ने अपना कार्यकाल शुरू किया!!

जब 20साल का एक इंसान जवान कहा जाता है तो कुते के लिए वो आखिरी समय होता है।

जब हम एक ही दिन में रात व दिन महसूस करते हैं तो उत्तरी ध्रुव पर रहने वाले एस्किमो 6 महीने तक सिर्फ रात व 6 महीने तक सिर्फ दिन में रहते हैं तो क्या एक साल उनके लिए एक दिन व एक रात हैं?

घड़ियां कितनी भी हों समय एक ही होता है किंतु आपका व हमारा समय हमें अलग अलग परिणाम देता है।

कोई हमसे आगे है पीछे इससे कोई फर्क नही पड़ता क्योंकि हमें अपने समयनुसार चलना होता है।

किसी से अपनी तुलना मत करिये अपने समय के साथ चलिये।

कुछ देर नही हुई है..!!!

ना आपकों नौकरी मिलने में
ना शादी होने में
ना बच्चा होने में
ना प्रमोशन में
ना गाड़ी खरीदने में
ना घर खरीदने में
ना इन्क्रीमेंट बढ़ने में

जिस समय आप बुरे समय को कोस रहे होते हैं समय उस वक़्त भी चल रहा होता है जिस समय आप अच्छे वक़्त में ठहाके लगा रहे होते हैं समय उस वक़्त भी चल रहा होता है।

आपको भले ही लगे देर हो रही है किंतु समय जानता है की उसे कब आना है

ना तो देर हुई हैं ना ही कोई जल्दी है ,क्योंकि आपका समय अपने समय पर ही आएगा

बस !!भरोसा रखिये!!!

Branded Vs Generic Medicines

tablets medicines

1960 के दशक के पहले तक मेडिकल साइंस व दवायें इतना दिमाग घुमाने वाली नही होती थी।

ज्यादातर दवाएं ब्रांडेड थी व गुणवत्ता पर बहुत सवाल नही होते थे।

फिर 1937 की Sulfanilamide Elixir आपदा तथा 1960 की Thalidomide त्रासदी और टीकों में प्रदूषण के बाद नए रूप से दवाओं की गुणवत्ता व कीमत के ऊपर विश्लेषण होने लगे।

फिर 1960 में USFDA यानी united states food and drug administration नामके अवतार का जन्म हुआ जिससे दवाओं का प्रयोगशाला प्रदर्शन करना अनिवार्य हो गया।

इसके बाद दवाओं के clinical trials से जुड़ी हुई EBM यानी Evidence Based Medicine का परीक्षण पास करने के बाद ही दवाओं के निर्माण की अनुमति मिलने लगी।

आज किसी भी नई दवा को विकसित करने की कीमत करोड़ों में व अरबों में होती है जब कोई बड़ी दवा कंपनी नई दवा बनाती है, तो अनुमोदन के बाद सरकार कंपनी को विशिष्ट अवधि के लिए दवा का निर्माण और बाजार के लिए एक विशेष पेटेंट देती है,जो की आमतौर पर 10-20 वर्ष के लिए होता हैं ।,स्वाभाविक है की दवा बनाने वाली कंपनी को अपने रिसर्च व डेवलपमेंट यानी R&D का खर्चा इन्ही सालों में निकालना पड़ेगा ,इसीलिए ब्रांडेड दवा महंगी होती है।ये ब्रांडेड दवाएं नये प्रकार की बीमारियों और समाज की ज़रूरत के हिसाब से बनाई जाती हैं।

जब पेटेंट की समय सीमा समाप्त हो जाती है, तो लाइसेंस प्राप्त फार्मा कंपनी दवा बना सकती है। जब दवा एक फार्मा कंपनी द्वारा पेटेंट की समाप्ति के बाद निर्मित होती है, और बहुत कम कीमत पर बेची जाती है, इसे एक सामान्य दवा कहा जाता है

आज दवाओं के निर्माण के नियम अधिकांश देशों में बने हुए हैं और EBM की दवाओं को ही मान्यता मिलती है। इन प्रयोगों को सुरक्षित करने के लिए Helsinki Declaration 1964 का पालन करना अनिवार्य हो गया किंतु इससे उन फार्मक्यूटिकल कंपनियों को दिक्कत आने लगी जिनके पास प्रयोगशाला परीक्षण के लिए पर्याप्त धन नही है। क्योंकि ये प्रयोग बहुत महंगे होते हैं।

इस परेशानी को ध्यान में रखकर 1984 में फिर से ड्रग विनियामक कानून में परिवर्तन किया गया और अब छोटी कंपनियों को जैव -समकक्षता यानी Bio-Equivalence (BE) तथा जैव उपलब्धता यानी Bio-Availability (BA) के आधार पर मूल अणु से ही बनी हुई दूसरी दवा बना सकते हैं ।इसके लिए महंगेclinical test की ज़रूरत नही। इससे वही दवा कम मूल्य पर दूसरे नाम से मिल सकेगी। यही से Generic Medicine यानी “सामान्य  दवा” का जन्म हुआ।

जेनेरिक दवा में भी वही “सक्रिय तत्व” या Active Ingredient होता है जो मूल दवा में होता है। लेकिन इसको बनाने में महंगे टेस्ट की प्रक्रिया से नही गुजरना पड़ता इसलिये ये सस्ती होती हैं ।

इससे निर्माता व उपभोक्ता दोनों ही खुश होने चाहिये किन्तु इसके पीछे भी एक बदसूरत सच्चाई है।

*भारत के परिपेक्ष्य में “जेनेरिक दवा उत्पादन और विनियमन” का एक बहुत ही भद्दा पक्ष है। विकासशील देशों में जेनेरिक दवा के माध्यम से कम मूल्य पर जनता को दवा देने का प्रयास किया जाता है पर चूंकि इसकी निर्माण प्रक्रिया सस्ती हो जाती है अतः बहुत सी कंपनियां इसकी आड़ में डुप्लीकेट दवा बनाने लगी हैं। भ्र्ष्टाचार के चलते क्वालिटी कंट्रोल व गुणवत्ता पर ध्यान ना देकर इन दवाओं को पास कर दिया जाता है परिणामस्वरूप इन दवाओं से होने वाले नुकसान बढ़ रहे हैं । जिन्हें बनाने की प्रक्रिया में या तो मूल एक्टिव तत्व की मात्रा कम कर दी जाती है या उसे मिलाया नही जाता फलस्वरूप या तो दवा असर नही करती या विरुद्ध परिणाम होते हैं ।

हाल ये है की आज दुनिया मे बिकनेवाकी नकली दवाओं का 75% खेप भारत से जाती हैं । बहुत से देशों में भारत से आई हुई दवाईं बैन हैं। भारतीय दवाओं को विदेशों में बेचकर लाभ कमाने के लालच में बड़ी बड़ी फार्मक्यूटिकल कंपनियां जैसे की Ranbaxy, GVK Biohealthcare, Dr. Reddy Laboratory इत्यादी जाली BA/BE रिपोर्ट प्रस्तुत करने के अपराध में दोषी पाई गई व करोड़ों रुपये का हर्जाना भरना पड़ा।

इस साल में 2017 में लंबे समय बाद सरकार को अपने ड्रग एंड कॉस्मेटिक एक्ट में संशोधन करने के लिए मज़बूर होना पड़ा। जिसके अंतर्गत दवा निर्माताओं के लिए BE/ BA रिपोर्ट जमा करना अनिवार्य कर दिया गया।

अब इसपर कितनी गंभीरता से अनुमोदन होगा वो तो समय ही बताएगा। पिछली सरकार में ऐसी किसी रिपोर्ट को जमा कराना जरूरी नही था। गाहे बगाहे तैयार दवाओं के सैंपल चेक किये जाते थे। इसकी आड़ में जेनेरिक दवा बनाने वाली कंपनियां दवा में active ingredient के अनुपात में  फेरबदल कर 1000% तक का फायदा उठती है यही दवाईं सरकारी सप्लाई में भी पैसा खिलाकर मरीजों को बंटवाई जाती हैं जहाँ मंत्री से लेकर अस्पताल इंचार्ज तक का पैसा बंधा होता है। पकड़े जाने पर ये लोग इन्ही दवाओं को छोटे गांवों व गरीब देशों में बेचने लगते हैं।

इन दवाओं के सेवन से तो लोग नही मरते किन्तु उसमे active ingredient के अनुपात में समझौते से बीमारी या तो ठीक नही होती या कुछ अन्य तरह की परेशानियां हो जाती हैं।

फिलहाल बाज़ार में तीन तरह की दवाईं हैं:

  • ब्रांडेड जो की प्रतिष्ठित दवा कंपनियों द्वारा बेची व विज्ञापित की जाती है और जिन्हें प्राइवेट डॉक्टर अपने परचे पर लिखते हैं।
  •  ब्रांडेड जेनेरिक दवाईं जो प्रतिष्ठित कंपिनियो द्वारा बनाई जाती हैं और जिन्हें केमिस्ट आपको सुझाते व बेचते हैं
  • नॉन ब्रांडेड जेनेरिक दवा जो छोटी कंपनियों द्वारा बिना क्वालिटी कंट्रोल के बनाई जाती हैं व एक्टिव इंग्रीडिएंट की मात्रा पर ध्यान नही दिया जाता।

 

हाल ही में Medical Council of India (MCI) ने निर्देश जारी किए हैं जिसमे सभी पंजीकृत चिकित्सकों को अपने पर्चे में सिर्फ रासायनिक नाम लिखना होगा दवा का ब्रांड नही, इससे जो डॉक्टर पैसा लेकर ब्रांडेड दवाओं का नाम लिखते हैं उसमें कमी होगी किन्तु कमी ये है की केमिस्ट अपनी मनमानी दवा आपको देंगे। उसमे खतरा है जो कंपनी केमिस्ट को पैसा देगी वो उसी का नाम सुझाएंगे।

ये सब जानकारी आपकी देने का मेरा उद्देश्य आपको जागरूक करना था। दवा चाहे ब्रांडेड हो या जेनेरिक उसकी गुणवत्ता पर समझौता नही होना चाहिए उसी के साथ इस चिकित्सा के गठजोड़ वाले तंत्र में ऊपर से नीचे तक कितना भृस्टाचार है आपको पता लगे। इसमें देश की सरकार से लेकर केमिस्ट तक मिले हुए हैँ। अगली बार यदि किसी प्रियजन की मृत्यु हो तो उसकी वजह बीमारी ही नही गलत दवा भी हो सकती हैं।

कोई कुछ नही करेगा हमे खुद ही जागरूक होना पड़ेगा। हमे अपने आप पास क्या हो रहा है उसकी जानकारी होनी चाहिए।

आपमे से वो सभी लोग जो फ़ोन पर अधिकतर सेल्फी या जोक्स देखते हैं,अगली बार जब किसी दवा का पर्चा लें तो उसमें लिखी दवाईं को गूगल कर लें. उस दवा से जुड़ी अधिकतर जानकारी आप को मिल जाएगी उसके अतिरिक्त India.nic.in की वेबसाइट पर जाकर आप दवाओं की कीमत व अन्य जानकारियों से जुडी App भी अपने मोबाइल पर डाउनलोड कर सकते हैं ।

जहाँ हज़ारों लोग दुश्मनों की गोलियों से मर रहे है वहीं लाखो लोग दवा की गोली से भी मर रहे हैं अगर हम जागरूक हो जाये तो अपनो का जीवन बचा सकते हैं ।

 

 

We are a shadow of our thoughts

positivity

दक्षिण प्रशांत महासागर में एक द्वीप संग्रह है जिसका नाम *सोलोमन आइलैंड है, वहां पर एक विचित्र परंपरा है।

वहाँ के आदिवासी किसी पेड़ को कुल्हाड़ी या आरी से नही काटते बल्कि जब किसी पेड़ को काटना होता है यो उसके गिर्द घेरा बनाकर प्रतिदिन उसे घंटो तक कोसते हैं

कुछ ही हफ्तों में पेड़ सूख जाता है व मर जाता है और फिर वो उसे उखाड़ देते हैं।

हममे से कुछ लोगों को ये विश्वास होना मुश्किल है की कैसे अमूर्त व अदृश्य विचार किसी पेड़ को मार सकते हैं?

अगर हम ये मानते हैं की पेड़ पौधों में भी जान होती है तो शायद उन पर बुरे विचारों व श्राप का असर होता होगा।

मैँ ये उदाहरण विज्ञान को चुनोती देने के लिये नही बात रही हूँ अपितु सिर्फ इस बात पर ध्यान दिलाने के लिए की हंमारे शब्दों व विचारों में किस प्रकार की ताकत होती है

इस ताक़त का उपयोग हम सकारात्मक व नकारात्मक दोनों ही रूपों में कर सकते हैं

हमारा अचेतन मन यानी subconscious mind, हमारे चेतन मन यानी conscious mind से कई गुना शक्तिशाली होता है और इसका प्रत्यक्ष असर हंमारे जीवन पर देखने को मिलता है।

कुछ माँ बाप अपने बच्चों को सदैव कोसते रहते हैं की वो कुछ ठीक से नही कर सकते यकीन मानिए ये सुनते सुनते वो बच्चे ये मान लेते हैं की वो सचमुच कुछ ठीक से नही कर सकते।

एक लड़की हमेशा से सुनती आती है की ससुराल एक बंधन है व सास ससुर उसे कभी प्यार नही कर सकते ,यकीन मानिये वो लड़की दुनिया के सबसे प्यार करने वाले ससुराल में भी दुख ढूंढ लेगी।

यदि कोई इंसान सैदव अपनी गरीबी का रोना रोता रहता है तो वो कभी अपने जीवन मे आपने वाली उपलब्धियों की ओर गौर नही करेगा।

कुछ लोग हमेशा बीमारी का गाना गाते रहते हैं उन्हें एक छींक आने से भी बीमारी का डर सताने लगेगा।

कुछ लोगों में ईर्ष्या इतनी होती है की यदि वो किसी अनजान को भी हँसते देख लें तो वो कुढ़ कुढ़ कर अपना दिन खराब कर लेते हैं।

कुछ लोग बुरी आदतों के शिकार होते हैं व ये जानते हुए भी वो उसे नही छोड़ते क्योंकी उसने उनके अचेतन मन पर कब्ज़ा किया हुआ है ।

हमारा चेतन मन हंमारे अचेतन मन की छाया होता है

इसलिये जब सोलोमन आइलैंड के लोग पेड़ को श्राप दे रहे होते हैं तो वो अपने मन की सारी कुंठा, हताशा, क्रोध, निराशा व दुःख उस पेड़ को देने लगते हैं और पेड़ धीरे धीरे उसे आत्मसात करने लगता है और उसकी अणु संरचना प्रभावित होते लगती है।(The biology of belief -Brouse H.Lipton)

यह हमारे साथ भी होता है,यदि हम निराशात्मक प्रकृति वाले लोगों के बीच रहते हैं तो उनकी कुंठा,निराशा व नेगेटिविटी धीरे धीरे हमारे मन मे भी जगह बना लेती है और हमारे अच्छे विचार प्रभावित होने लगते हैं ,कुछ दिन बाद हम भी उन्ही के जैसा सोचने लगते हैं ।

2500 वर्ष पहले गौतम बुद्ध ने कहा था
” आप अपने स्वयं विचारों का फल हैं”

कृपया अपने बच्चों को जो नही कर सकते उसके लिए कोसिए मत लेकिन जो कर सकते हैं उसकी प्रेरणा ज़रूर दीजिये। आपके बच्चे आपका प्यार हों, आपकी जायदाद नही।

इसी के साथ अपने आप को भी मत कोसिये वरना आप वही बन जाएंगे जो आप नही बनना चाहते।

नकारतात्मक सोच वाले लोगों की संगत से बचिये।वो आपको जीवन मे नीचे लाने के सिवाय कुछ नही करेंगे।