Our Individual Time Zone

time

 

कालः सुप्तेषु जागर्ति कालो हि दुरतिक्रमः ।
कालः सर्वेषु भूतेषु चरत्यविधृतः समः ।।

क्या आप जानते हैं म्यामार (बर्मा) भारत से एक घण्टे आगे है तो क्या हम कहेंगे भारत म्यामार से धीरे है ?
भारत ब्रिटेन से 4.30 घण्टा आगे है तो क्या ब्रिटेन भारत से पीछे रह गया है?

जी नही !!दिन का जो समय भारत मे आता है वही समय म्यामार में एक घंटा पहले था और वही समय ब्रिटेन में साढ़े चार घन्टो बाद होगा।

यानी हम सब अपने समय मे चल रहे हैं!!

किसी की शादी छुटपन में हो गई कोई अभी कुंवारा है किसी के बच्चे सालों तक नही होती किसी के एक साल में ही हो जाते हैं

कोई 22 साल की उम्र में पढ़ाई खत्म कर 30 साल तक नौकरी के इंतज़ार में बैठा है और कोई 30 साल की उम्र में पढ़ाई खत्म करते ही नौकरी पा जाता है।

कुछ लोग 20 साल की उम्र में फौज में जाते हैं और 35 साल पर रिटायर भी हो जाते हैं कुछ लोग 35 साल पर नौकरी शुरू करते है और 60 साल में रिटायर होते हैं।

एक जवान इंसान एक्सीडेंट में मर जाता है और एक बीमार बुढा 90 साल की उम्र तक जीता रहता है।

क्यों????

क्योंकी हम सब अपने समय के दायरे में चलते हैं। हम अपना जीवन सिर्फ अपने समय के परिपेक्ष्य में जी सकते हैं किसी दूसरे के नही।

कभी कभी आपको लगता होगा आपके मित्र, भाई बहन आपसे आगे निकल गए और कभी आप कुछ लोगों से आगे निकल गये वो इसलिये की हममे से हर एक के समय की गति अलग है।

हम सभी को जीवन मे अपने समय मे ,अपनी गति से और अपने मार्ग से चलना होता है। इश्वेर ने हम सब के लिए एक व्यक्तिगत खाका तैयार किया है जो किसी दूसरे से अलग है

हमारी गति अलग है हमारा समय अलग है।

मोदी जी 8 साल की उम्र से RSS में थे किंतु 50 साल की उम्र में पहली बार MLA फिर CM बने ,योगी जी 26 साल की उम्र में MP बन गए और 44 साल की उम्र में CM!!

राजीव गांधी 40 साल की उम्र में प्रधान मंत्री बने और 46 साल की उम्र में मर गए मोरारजी देसाई 81 साल की उम्र में प्रधानमंत्री बने और 99 साल की उम्र में मरे!!

55साल की उम्र में ओबामा रिटायर हो गये और 70 साल की उम्र में डोनाल्ड ट्रम्प ने अपना कार्यकाल शुरू किया!!

जब 20साल का एक इंसान जवान कहा जाता है तो कुते के लिए वो आखिरी समय होता है।

जब हम एक ही दिन में रात व दिन महसूस करते हैं तो उत्तरी ध्रुव पर रहने वाले एस्किमो 6 महीने तक सिर्फ रात व 6 महीने तक सिर्फ दिन में रहते हैं तो क्या एक साल उनके लिए एक दिन व एक रात हैं?

घड़ियां कितनी भी हों समय एक ही होता है किंतु आपका व हमारा समय हमें अलग अलग परिणाम देता है।

कोई हमसे आगे है पीछे इससे कोई फर्क नही पड़ता क्योंकि हमें अपने समयनुसार चलना होता है।

किसी से अपनी तुलना मत करिये अपने समय के साथ चलिये।

कुछ देर नही हुई है..!!!

ना आपकों नौकरी मिलने में
ना शादी होने में
ना बच्चा होने में
ना प्रमोशन में
ना गाड़ी खरीदने में
ना घर खरीदने में
ना इन्क्रीमेंट बढ़ने में

जिस समय आप बुरे समय को कोस रहे होते हैं समय उस वक़्त भी चल रहा होता है जिस समय आप अच्छे वक़्त में ठहाके लगा रहे होते हैं समय उस वक़्त भी चल रहा होता है।

आपको भले ही लगे देर हो रही है किंतु समय जानता है की उसे कब आना है

ना तो देर हुई हैं ना ही कोई जल्दी है ,क्योंकि आपका समय अपने समय पर ही आएगा

बस !!भरोसा रखिये!!!

We are a shadow of our thoughts

positivity

दक्षिण प्रशांत महासागर में एक द्वीप संग्रह है जिसका नाम *सोलोमन आइलैंड है, वहां पर एक विचित्र परंपरा है।

वहाँ के आदिवासी किसी पेड़ को कुल्हाड़ी या आरी से नही काटते बल्कि जब किसी पेड़ को काटना होता है यो उसके गिर्द घेरा बनाकर प्रतिदिन उसे घंटो तक कोसते हैं

कुछ ही हफ्तों में पेड़ सूख जाता है व मर जाता है और फिर वो उसे उखाड़ देते हैं।

हममे से कुछ लोगों को ये विश्वास होना मुश्किल है की कैसे अमूर्त व अदृश्य विचार किसी पेड़ को मार सकते हैं?

अगर हम ये मानते हैं की पेड़ पौधों में भी जान होती है तो शायद उन पर बुरे विचारों व श्राप का असर होता होगा।

मैँ ये उदाहरण विज्ञान को चुनोती देने के लिये नही बात रही हूँ अपितु सिर्फ इस बात पर ध्यान दिलाने के लिए की हंमारे शब्दों व विचारों में किस प्रकार की ताकत होती है

इस ताक़त का उपयोग हम सकारात्मक व नकारात्मक दोनों ही रूपों में कर सकते हैं

हमारा अचेतन मन यानी subconscious mind, हमारे चेतन मन यानी conscious mind से कई गुना शक्तिशाली होता है और इसका प्रत्यक्ष असर हंमारे जीवन पर देखने को मिलता है।

कुछ माँ बाप अपने बच्चों को सदैव कोसते रहते हैं की वो कुछ ठीक से नही कर सकते यकीन मानिए ये सुनते सुनते वो बच्चे ये मान लेते हैं की वो सचमुच कुछ ठीक से नही कर सकते।

एक लड़की हमेशा से सुनती आती है की ससुराल एक बंधन है व सास ससुर उसे कभी प्यार नही कर सकते ,यकीन मानिये वो लड़की दुनिया के सबसे प्यार करने वाले ससुराल में भी दुख ढूंढ लेगी।

यदि कोई इंसान सैदव अपनी गरीबी का रोना रोता रहता है तो वो कभी अपने जीवन मे आपने वाली उपलब्धियों की ओर गौर नही करेगा।

कुछ लोग हमेशा बीमारी का गाना गाते रहते हैं उन्हें एक छींक आने से भी बीमारी का डर सताने लगेगा।

कुछ लोगों में ईर्ष्या इतनी होती है की यदि वो किसी अनजान को भी हँसते देख लें तो वो कुढ़ कुढ़ कर अपना दिन खराब कर लेते हैं।

कुछ लोग बुरी आदतों के शिकार होते हैं व ये जानते हुए भी वो उसे नही छोड़ते क्योंकी उसने उनके अचेतन मन पर कब्ज़ा किया हुआ है ।

हमारा चेतन मन हंमारे अचेतन मन की छाया होता है

इसलिये जब सोलोमन आइलैंड के लोग पेड़ को श्राप दे रहे होते हैं तो वो अपने मन की सारी कुंठा, हताशा, क्रोध, निराशा व दुःख उस पेड़ को देने लगते हैं और पेड़ धीरे धीरे उसे आत्मसात करने लगता है और उसकी अणु संरचना प्रभावित होते लगती है।(The biology of belief -Brouse H.Lipton)

यह हमारे साथ भी होता है,यदि हम निराशात्मक प्रकृति वाले लोगों के बीच रहते हैं तो उनकी कुंठा,निराशा व नेगेटिविटी धीरे धीरे हमारे मन मे भी जगह बना लेती है और हमारे अच्छे विचार प्रभावित होने लगते हैं ,कुछ दिन बाद हम भी उन्ही के जैसा सोचने लगते हैं ।

2500 वर्ष पहले गौतम बुद्ध ने कहा था
” आप अपने स्वयं विचारों का फल हैं”

कृपया अपने बच्चों को जो नही कर सकते उसके लिए कोसिए मत लेकिन जो कर सकते हैं उसकी प्रेरणा ज़रूर दीजिये। आपके बच्चे आपका प्यार हों, आपकी जायदाद नही।

इसी के साथ अपने आप को भी मत कोसिये वरना आप वही बन जाएंगे जो आप नही बनना चाहते।

नकारतात्मक सोच वाले लोगों की संगत से बचिये।वो आपको जीवन मे नीचे लाने के सिवाय कुछ नही करेंगे।