Babawaad

पिछले कुछ दिनों से एक के बाद एक बाबाओं का खुलासा हो रहा है। कभी आशाराम,कभी रामरहीम ,कभी फलाहारी और ना जाने कौन कौन !!

लेकिन यहां मैँ इन बाबाओं के कुत्सित कर्मों के बारे में बात नही कर रही। बाबाओं के काले किस्सों से अखबार व TV चँनेल्स रंगे पड़े हैं लेकिन सवाल ये उठता है की ये किस्से बनते कैसे हैं।

यदि विश्लेषण किया जाये तो हर बाबा के किस्से में कोई भी केस ब्लात्कार व शोषण की घटना के तुरंत बाद दर्ज नही हुआ। तकरीबन सारे ही केस हादसों के कुछ समय बाद सामने आये।

आज जब छेड़छाड़ व बलात्कार के शोषित तुरंत कानून की सहायता लेते हैं ब कानून भी अब पूरी तरह से शोषितों की मदद करता है तो इन मामलों में पुलिस में रिपोर्ट बाद में क्यों की जाती है।ज़ाहिर है ये बाबा बहुत ऊपर तक पहुंच रखते है ,नेता से लेकर मंत्री और पूंजीपति से लेकर कानून के रखवाले तक इनके दरबार मे हाजिरी भरते हैं।

अगर ये मान लिया जाए की बाबाओं की पहुंच ऊपर तक है और पीड़ित उनके भय से कानून की शरण लेने से डरते हैं तो फिर किस मोड़ पर वो ये निर्णय करते हैं की अब ये मामला खुले में आना है?

सभी बाबाओं के किस्सों में एक समानता तो है कि :

¶हर पीड़िता अपनी मर्ज़ी से उनके आश्रम में गई।
¶हर एक पीड़िता बाबा को पहले से जानती थी।
¶ हर पीड़िता का परिवार बाबा का भक्त होता है।
¶हर पीड़िता व उसके परिवार को बाबा पर अन्धभरोसा होता है।
¶हर पीड़िता हादसे से पहले भी बाबा के निकट संपर्क में रही हैं।
¶करीब सभी मामलों में पीड़ित के साथ मारपीट, प्रताड़ना या अन्य तरह का शारीरिक उत्पीड़न नही हुए।
¶सभी मामलों में पीड़ित के परिवार वालों ने इस मामलों को शुरू में ही report करने की ज़रूरत नही समझी?

यहाँ सभी को एक बात पर गहराई से ध्यान देना होगा कि महिलाओं को इश्वेर ने कुदरती रूप से ये समझने की ताक़त दी है कि वो जान जाती हैं की किसकी नज़र खराब है,कौनसी हरकत गलत है , गलत तरह से छुआ जाना,या कोई अश्लील इशारे करना।ये सब आभास महिलाएं छोटी उम्र से ही समझ जाती हैं।

एक औरत होने के नाते मैं जानती हूँ की महिलाओं में गलत नीयत को जानने की शक्ति पुरुषों से कहीं ज्यादा होती है।

लेकिन इन सभी किस्सों में ये महिलाएं शुरू में ही इन इशारों को समझ कर सतर्क क्यों नही होती?

इन बलात्कारों में आरोपी बाबा उन्हें सड़क से उठा कर किसी सुनसान जगह में ले जाकर बलात्कार नही करता अपितु ये महिलाएं ये जानते हुए भी की किसी भी पुरुष के पास इस प्रकार से एकांत में रहने पर खतरा हो सकता है फिर भी जाती हैं? क्यों?

जो घरवाले उन्हें किसी लड़के के साथ बात करते देखकर भड़क जाते है क्यो अपने परिवार की स्त्रियो को पराये पुरुष के पास इस प्रकार भेजते हैं?

जो जवान लड़कियाँ इन बाबाओं का शिकार होती हैं क्या उनकी माएँ इसे आभास नही कर पाती की किस प्रकार किसी पुरुष के पास अपनी जवान बेटी को भेजने में खतरा हो सकता है?

क्यों ऐसे समयों में परिवार की कोई अन्य स्त्री या पुरुष पीड़ित के साथ नही होती?

जहाँ बाबा गलत है वहाँ भक्त भी कुछ कम गलत नहीं!

ये वो भक्त हैं जो असलियत जानकर भी अनदेखा करते हैं कुछ पाने की लालसा में कुछ खोना भी पड़ेग ये उस बात को क्यों नही समझते ?

दरअसल इन मामलों की पीड़िता कहीं ना कहीं बाबा से प्रभावित होती हैं या फिर बाबा के पास अपनी किसी इच्छा की पूर्ती या निज स्वार्थ से जाती हैं।

यदि पीड़ित को बाबा कोई नौकरी दिलाता है ,या बाबा उनहे रुपिया पैसा देता है,व्यपार में पैसा देता है,जमीन जायदाद दिलवाता है,कार्य सिद्दी के लिए influential लोगों से जिनमे धनाढ्य व्यपारी से लेकर आला दर्जे के अधिकारी व राजनैतिक व्यक्ति होते हैं, उनसे पीड़ित का संपर्क कराता है, तो फिर पीड़ित को ये बात जान लेनी चाहिये की प्रतिफल में कुछ माँगा जायेगा।

बाबाओं की पावर इतनी होती है कि हनीप्रीत जैसी लड़की अपने पति को छोड़कर अधेड़ उम्र के थुलथुल भांड जैसे बाबा की सरपरस्ती में चली जाती है? वो इन बाबाओं के साथ क्यों संपर्क बनाती हैं? मतलब साफ है पैसा व पावर!!

लोग समझते हैं कि वो बाबा की शरण से सबकुछ फ्री में पा लेंगे।
Nothing is free in life, Everything has a price

बाबा अपनी कृपा की कीमत वसूलते हैं। यदि बाबा किसी जवान औरत पर उपकार करता है तो जानता है की उसे बदले में क्या चाहिये!! जानती ये औरतें भी हैं कि बाबा की उनपर नज़र है किंतु वो सोचती हैं काम निकल जाए फिर देखेँगे।

वो पहली बार शायद बाबा का विरोध नही करती लेकिन बाद में नही चाहती कि उसकी पुनरावृति हो इस डर से या मानसिक यातना से टूट कर वो कानून की शरण लेती हैं।

यदि कोई महिला किसी काम को निकलवाने किसी पुरुष के पास जाती है तो उसे इस बात का अहसास ज़रूर होता है कि सामने बैठा पुरुष बदले में क्या चाहता है लेकिन चाहे वो पारिवारिक मजबूरी हो या आर्थिक मज़बूरी हो या महत्वकांशा कहीं ना कहीं वो महिला झुकती ज़रूर है ,इस प्रकार के बने संबंधों में पुरुष अपने द्वारा दी गई सहायता या उपकार का बदला वसूलते हैं, लेकिन सवाल ये है कि क्या महिला स्वयं अपने को इन स्थितियों में ले जाने के लिए किस हद तक तैयार होती है?

वो परिस्थितियों से सामंजस्य बिठाने के लिए तो मजबूरी वश इन संबंधों के लिए तैयार हो जाती है लेकिन वो मानसिक रूप से अपने आप को इसके लिए तैयार नही कर पाती। बाद में अंतर्द्वंद के चलते वो इन घटनाओं को उजागर करने को तैयार हो जाती है।

कुछ वर्षों पूर्व अमेरिका में एक प्रसिद्ध धर्मगुरु की शिष्या को ज्यों ही इस बात का अहसास हुआ की स्पेशल सेवा का मतलब क्या होता है और क्यों बाबाजी स्त्रियों को कमरे में बुलाते है उसने तुरंत पुलिस को सूचित कर दिया,लेकिन सवाल ये है उससे पहले जिन महिलाओं के साथ वो सबकुछ हुआ उसे वो जानकर भी अन्य महिलाओं को सतर्क क्यों नही करती। क्यों एक महिला दूसरी महिला की रक्षा के लिए आगे नही आती?

यौन शोषण भी एक प्रकार की रिश्वत ही है, यदि कोई फ़ेवर पुरुष को दिया जाए यो कीमत रुपये में वसूली जाती है और यही फ़ेवर महिला को दिया जाये तो कीमत शारीरिक संबंध के रूप में भी मांगी जा सकती है।

रिश्वत इसलिये ली जाती है क्योंकी हम अपना काम निकालने के लिए वो कीमत देने को तैयार हैं, यौन शोषण तब होता है जब आपका उद्देश्य, होने वाले शोषण से आपके लिए कहीं ज्यादा कीमत रखता है।

आज स्थिति इतनी खराब है महिलाओं को चरित्र हनन के औजार के रूप में इस्तेमाल किया जा रहा है ।यदि राजनीती में प्रतिद्वंदी को रास्ते से हटाना हो तो किसी महिला को छदम रूप में विरोधी के यहां भेज दो, वो महिला बाद में किसी प्रकार के आपतिजनक फ़ोटो व वीडियो बना कर मीडिया व सोशल मीडिया में उसे छपवा देगी। scandal बनेगा और विरोधी खत्म!!

सवाल ये है कि हम महिलाएँ कहीं ना कहीं स्वयं ही ऐसी स्थितियां पैदा कर रही है जिससे यौन शोषण जैसी घटनाएं कम होने की जगह बढ़ रही हैं ।कुछ महिलाएं थोड़े में सब्र करने को तैयार नही। महत्वकांशाएँ निरंतर बढ़ रही है।

यदि महिलाएँ इन situational compromises को छोड़कर यौग्यता बढाने पर ध्यान दें एक मजबूत चरित्र को लेकर चलें तो महिलाओं की स्थिति सम्मानजनक बनेगी। महिलाएं अपने को टूल बनने से रोकें।

यदि इच्छापूर्ती या महत्वकांक्षा की पूर्ति के लिए आप किसी बाबा,नेता,अधिकारी या महत्वपूर्ण व्यक्ति से सम्बंध बनाने को तैयार हैं तो आप समाज मे महिलाओं के सम्मान को गिराने की ज़िम्मेदार है जिसका नुकसान सभी स्त्रीजाति को होगा।

I request all my women fellow citizens to live life with dignity and do not use short cuts.

Happy Mother-In-Law Day

आप सोच रहे होंगे कि ये दिन तो कभी सुना ही नही!!

आज मेरी *सास*का श्राद्ध था।सभी रीतिरिवाज करने के बाद भी ऐसा नही लग रहा था कि वो हमारे साथ नही हैं। मैँ हर पल उन्हें परिवार में महसूस करती हूँ। उनका मार्गदर्शन आज भी हमे मिलता है।

आज मैं जो कुछ भी हूँ उसमे एक बड़ा योगदान उनका भी है। उनसे इतना कुछ सीखने को मिला की लगा कि जीवन मे वो बहुत काम आ रहा है। उन्होंने सीखाया कि परिस्तिथियों से कैसे लड़कर आगे बढ़ा जाता है। किस प्रकार परिवार को जोड़कर रखा जाता है।
कर्मठ बनो क्योंकी काम करने से कोई नही मरता। मुझे निर्भीक बनाया। किसी भी कठिन परिस्थिति में वो सम्बल देती थीं। उनका छोटा सा कथन”घबराओ नही,सब ठीक हो जाएगा” सुनती थी तो लगता था वाकई सब ठीक हो जाता है।

मुझसे बहुत सारी गलतियां भी होती थी लेकिब उनमे बहुत धैर्य था वो मेरे समझने का इंतज़ार कर लेती थी। सबसे बड़ी चीज जो सीखी स्वाभिमान व संतोष , शायद इसलिये कभी घर मे “अपना पराया” व “तेरा मेरा” नही हुआ। कभी किसी से ईर्ष्या नही हुई।

भारतीय संस्कृति में एक स्त्री को 2 बार जन्म होता है । एक तो जब वह एक बेटी के रूप में किसी के घर जन्मती है और दूसरा जब वह किसी के घर मे बहु के रूप में आती है।

जन्म देने वाली माँ जीवन के आरंभिक वर्षों में उसका पालन पोषण करके उसे एक ज़िम्मेदार वयस्क बनाती है लेकिन विवाह के बाद सास रूपी माता उसे एक परिवार को संभालने की दीक्षा देती है जो अगली 2 से 3 पीढी तक उसके काम आता है। सास ही सिखाती है इतने रिश्तों के बीच कैसे तालमेल बिठा कर परिवार को एकसाथ लेकर चलते हैं।

वो हमें अपना वो बेटा सौंप देती हैं जिसे उन्होंने अपनी छाती के नीचे रखकर पाला था। और एक सास कैसा महसूस करती है वो हमें तब पता चलता है जब हम स्वयं माँ बनते हैं।

पता नही क्यों हमारे समाज मे सास शब्द को एक उपहासिक पद के रूप में समझा जाता है। ज्यादातर कहानी किस्सों में ,TV सीरियल में ,फिल्मों में सास को एक खलनायिका के रूप में प्रस्तूत किया जाता है। जबकि वो भी किसी की माँ भी होती है, वो स्वयं भी सास बहू वाले रिश्ते से निकलकर आई होती है। आपके पति को उन्होंने 9 महीने पेट मे रखा व अपना दूध पिलाकर बड़ा किया।

सारे संस्कार माँ बाप ही नही देंकर भेजते ,बहुत से संस्कार ससुराल से भी सीखे जाते हैं। जो स्त्रियाँ ससुराल रूपी गंगा में डुबकी लगा लेती हैं वो अपने वैवाहिक जीवन मे ज्यादा सफल होती है।

कोई भी रिश्ता अपने आप सफल नही हो सकता, उसे सफल बनाना पड़ता है। रिश्तों को मजबूत करने के लिये उनमे निस्वार्थ प्रेम ,आदर व उदारता की सीमेंट डालनी पड़ती हैं । जिनके घर की दीवारें मजबूत होती हैं उनमें बाहर वाले सेंध नही लगा सकते।

यदि बहु अपने को सास की जगह रखकर सोचे और सास स्वयं को बहु की जगह रखकर सोचे तो सबकुछ साफ साफ समझ आ जायेगा ।

सभी विवाहित बहने से कहूँगी
“रिश्तों को ढोईये मत ,रिश्तों को जीना सीखिये”
ससुराल *जेल*नही *जीवन* है।

Care When They Are Here

पार्किन में गाड़ी में बैठी मैं कुछ पढ़ रही थी तभी खिड़की पर आहट हुई,बाहर एक वृद्ध महिला एक कपड़ा लिए गाड़ी का शीशा पोंछ रही थी।

शक्ल से वो किसी ठीक ठाक घर की लग रही थी।मैंने कहा “अम्मा ये उम्र तुम्हारी काम करने की नही घर बैठ कर सेवा कराने की है”उन्होंने बताया की घर मे बेटा, बहु पोते सभी हैं किंतु सवेरे ही वो उसे घर से निकाल देते हैं, कि मांग कर दिनभर गुज़ारा करे,आत्मसम्मान की वजह से वो भीख नही मांग पाती तो गाड़ी के शीशे पोंछ 2-4 रु कमाने की कोशिश करती है। मैंने उन्हें सम्मान से पास वाले ठेले से चाय पिलाई व समोसा खिलाया। उस माँ के काँपते हाथों में कप देखकर मैं सोच रही थी ये वही बेटा होगा जिसे इसने हर तकलीफ से बचा कर पाला होगा और आज वो इसे एक रोटी नही दे रहा।

ये कोई एक कहानी नही,बहुत सी ऐसी घटनाओं को देखा। समाज के सम्मानित सेवा निवृत्त बुजुर्गों तक का घोर अपमान व उपेक्षा हो रही है।जो आज भी हज़ारों रु पेंशन के घर मे दे रहे हैं और उनके बच्चे उन्हें टूटी कुर्सी की तरह घर के किसी कोने में रख देते हैं।

मेरी माताजी के कुछ पुराने सहयोगियों का हाल देखा। बुजुर्ग महिलाएँ घर का साग सब्जी रिक्शाओं पर व पैदल चलकर लाती है।
जबकि उनके बेटे बहु गाड़ियों में घूमते हैं। इस उम्र में भी वो सारे घर का खाना बनाती हैं। इन बुजुर्गों ने अपनी जीवन भर की कमाई से बेटों को आलीशान कोठियां बना कर दी और अब भी पोते पोतियों की ख्वाइश पूरी करते हैं लेकिन वही बेटा बहु उन्हें 2 रोटी भी इज़्ज़त से नही देते।

एक और बुजुर्ग दंपती हैं जिन्हें उन्ही के बेटे बहु ने घर से निकालकर एक कमरे में सिमट दिया है। उनकी बहू रसोई में घुस कर चाय भी नही बनाने देती मज़बूरन उन्हें टिफ़िन सर्विस लगानी पड़ी। दिल पर पत्थर रखकर उन्होंने अदालत की शरण ली।

अन्य बुजुर्ग महिला जिनकी टांग टूटी हुई है बैसाखी पर चलती हैं आलीशान कोठी के अपने कमरे को रात बन्द के सोती हैं क्योंकी बेटा रोज़ जान से मारने की धमकी देता है, सिर्फ इसलिए,कि वो अपनी पूरी पेंशन उसे नही देती।

एक और दंपती हैं जिनमे से एक को लकवा है और वो अपनी नित्य क्रियाओं तक को भी करने में असमर्थ हैं लेकिन घर का कोई सदस्य उनके कमरे तक मे नही आता। उनका दोनों का खाना भी कमरे के बाहर ही रख दिया जाता है।

ये सब देखकर मुझे ये लिखने पर मजबूर होना पड़ा ” जीते जी जिन्होंने माता पिता को एक रोटी चैन से नही दी उनके श्राद्ध में कुत्ते और कौवे को रोटी खिलाते हैं”

आज समाज मे कुछ बुजुर्गों की स्थिति बहुत दयनीय है ना तो उन्हें वो सम्मान मिल रहा है ना ही सेवा जिसके वो हक़दार हैं। ऐसे में कैसे उनके बच्चे उनका आशीर्वाद पा सकते हैं।

कोरे रिवाज़ों को निभाने से कर्तव्यों की इति नही हो जाती। रिश्तों का कर्ज ना तो दान देने से उतरता है ना ही पंडित को खाना खिलाने से।

माता पिता की आत्मा को उनके जीते जी प्रसन्न रखिये। उन्हें आपके थोड़े से सम्मान व थोड़ी सी सेवा की अपेक्षा है। उनकी इच्छाओं को जीते जी पूरा करिये।

कोई पंडित या जानवर आपके दिए भोजन को उनतक नही पहुंचा पायेगा यदि आपने जीते जी उन्हें कष्ट दिया होगा।

जीते जी उन्हें तीर्थ कराइए ,गंगा में प्रवाहित की अस्थियों से उनकी अतृप्त इच्छा नही पूरी होगी।

जीते जी उन्हें अच्छे व साफ कपड़े दीजिये मरणोपरांत दान दिये कपड़ों से उनकी आत्मा नही प्रसन्न होगी।

जीते जी उन्हें अच्छा भोजन कराइये वरना चाहे लाखो की दावत करिये उनकी आत्मा तो भूखी है दुनिया से गई होगी।

जीते जी समय निकाल कर उनके पास कुछ देर बैठिये। अपने बच्चों को बुजुर्गों से स्नेह करना सिखाइये वरना चाहे कितने कंबल दान करिये वो मुड़कर आपको आशीर्वाद देने नही आयेंगे।

जिन्हें माता पिता ,बाबा दादी व बुजुर्गों का आशीर्वाद नही मिलता वो चाहे कितनी दौलत कमा लें दुःख उनका पीछा नही छोड़ते।

सामाजिक रूढ़ियों से ज्यादा पारिवारिक कर्तव्य निभाइये और कोशिश करिये आपके माँ बाप जीते जी अपने सारे आशीर्वाद आपके लिए छोड़ जायें।

उनके छोड़े हुए धन व जायदाद से ज्यादा उनका छोड़ा हुआ आशीर्वाद आपके काम आयेगा।

Injustice or justice

महाभारत में कर्ण ने श्री कृष्ण से पूछा ” मेरी माँ ने मुझे जन्मते ही त्याग दिया ,क्या ये मेरा अपराध था की मैंने मेरी माँ की कोख से एक अवैध बच्चे के रूप में जन्म लिया?

दोर्णाचार्य ने मुझे शिक्षा देने से इनकार कर दिया क्योंकी वो मुझे क्षत्रिय नही मानते थे, क्या ये मेरा कसूर था?

परशुराम जी ने मुझे शिक्षा दी किन्तु ये श्राप भी दिया कि मैं अपनी विद्या भूल जाऊंगा क्योंकी वो मुझे क्षत्रिय समझते थे?

भूलवश एक गौ मेरे तीर के रास्ते मे आकर मर गयी और मुझे गौ वध का श्राप मिला?

द्रोपदी के स्वयंबर में मुझे अपमानित किया गया क्योंकि मुझे किसी राजघराने का कुलीन व्यक्ति नही समझा गया?

यहाँ तक कि मेरी माता कुंती ने भी मुझे अपना पुत्र होने का सच अपने दूसरे पुत्रों की रक्षा के लिए स्वीकारा।

मुझे जो कुछ मिला दुर्योधन की दया स्वरूप मिला!
तो क्या ये गलत है की मैं दुर्योधन के प्रति अपनी वफादारी रखता हूँ?

श्री कृष्ण मंद मंद मुस्कुराते हुए बोले:
कर्ण ,मेरा जन्म जेल में हुआ था!
मेरा पैदा होने से पहले मेरी मृत्यु मेरा इंतज़ार कर रही थी!
जिस रात मेरा जन्म हुआ उसी रात मुझे मेरे माता पिता से अलग होना पड़ा!
मेरा बचपन रथों की धमक,घोड़ों की हिनहिनाहट तीर कमानों के साये में गुज़रा!

मैन गायों को चराया व उनके गोबर को उठाया!
जब मैं चल भी नही पाता था तो मेरे ऊपर प्राणघातक हमले हुए!

कोई सेना नही,कोई शिक्षा नही,कोई गुरुकुल नही,कोई महल नही, मेरे मामा ने मुझे अपना सबसे बड़ा शत्रु समझा!

जब तुम सब अपने वीरता के लिए अपने गुरु व समाज के लिए प्रशंसा पाते थे उस समय मेरे पास शिक्षा भी नही थी। 16 वर्ष की उम्र में मुझे ऋषि सांदीपनि के आश्रम में जाने का अवसर मिला!

तुम्हे अपनी पसंद के जीवनसाथी से विवाह का अवसर मिलता है और मुझे वो भी नही मिली जो मेरी आत्मा में बसती थी!
मुझे बहुत से विवाह राजनैतिक कारणों से या उन स्त्रियों से करने पड़े जिन्हें मैंने राक्षसों से छुड़ाया था!

मुझे जरासंध के प्रकोप के कारण मेरा सारा कुटुम्ब यमुना से ले जाकर दूर देश मे समुद्र के किनारे बसाना पड़ा!दुनिया ने मुझे कायर कहा!

यदि दुर्योधन युद्ध जीत जाता तो विजय का श्रेय तुम्हे भी मिलता, लेकिन धर्मराज के युद्ध जीतने का श्रेय अर्जुन को मिला! मुझे कौरवों ने अपनी हार का उत्तरदायी समझ!

हे कर्ण!किसी का भी जीवन चुनोतियों रहित नही है,सबके जीवन मे सब कुछ ठीक नही होता!कुछ कमियाँ अगर दुर्योधन में थी तो कुछ युधिष्टर में भी थी!
लेकिन सत्य क्या है और उचित क्या है ये हम अपनी आत्मा की आवाज़ द्वारा स्वयं निर्धारित करते हैं!

इस बात से कोई फर्क नही पड़ता कितनी बार हम पर अन्याय होता है, इस बात से कोई फर्क नही पड़ता कितनी बार हमारा अपमान किया जाता है,इस बात से कोई फर्क नही पड़ता कितनी बार हमारे अधिकारों का हनन होता है…
फ़र्क़ सिर्फ इस बात से पड़ता है कि हम उन सबका सामना किस प्रकार करते हैं!

जीवन मे यदि हमारे साथ कुछ गलत होता है तो उससे हमे कुछ गलत करने का अधिकार नही मिल जाता,किन्ही एक परिस्थतियों के लिए हम किन्ही दूसरी परिस्थितियों को ज़िम्मेदार नही ठहरा सकते।

अन्याय की परिभाषा हम स्वयं तय करते हैं, यदि आप नक़ल करते पकड़े जाएं तो वो अन्याय नही है,यदि ड्यूटी पर रिश्वत लेते पकड़े जाएं तो वो अन्याय नही है, ये आपकी गलतियों का फल हैं हम उसका प्रतिकार नही कर सकते।

जीवन के संघर्षपूर्ण दौर ही हमारी किस्मत तय करते है।

इश्वेर ने हमे दिमाग दिया है लेकिन उसे गलत या सही रूप में इस्तेमाल करने का जिम्मा हमारा है!

इश्वेर ने हमे दो हाथ दिया उनसे सोना खोदना है या किसी की कब्र ये निर्णय हमारा है!
इश्वेर ने हमे पैर दिये लेकिन उन्हें किस रास्ते पर चलना है ये निर्णय भी हमारा है!

संघर्ष तो दोनों और है लेकिन आप उसका कृष्ण की तरह सामना करते हैं या कर्ण की तरह !!

ये निर्णय आपका है….

Our Individual Time Zone

time

 

कालः सुप्तेषु जागर्ति कालो हि दुरतिक्रमः ।
कालः सर्वेषु भूतेषु चरत्यविधृतः समः ।।

क्या आप जानते हैं म्यामार (बर्मा) भारत से एक घण्टे आगे है तो क्या हम कहेंगे भारत म्यामार से धीरे है ?
भारत ब्रिटेन से 4.30 घण्टा आगे है तो क्या ब्रिटेन भारत से पीछे रह गया है?

जी नही !!दिन का जो समय भारत मे आता है वही समय म्यामार में एक घंटा पहले था और वही समय ब्रिटेन में साढ़े चार घन्टो बाद होगा।

यानी हम सब अपने समय मे चल रहे हैं!!

किसी की शादी छुटपन में हो गई कोई अभी कुंवारा है किसी के बच्चे सालों तक नही होती किसी के एक साल में ही हो जाते हैं

कोई 22 साल की उम्र में पढ़ाई खत्म कर 30 साल तक नौकरी के इंतज़ार में बैठा है और कोई 30 साल की उम्र में पढ़ाई खत्म करते ही नौकरी पा जाता है।

कुछ लोग 20 साल की उम्र में फौज में जाते हैं और 35 साल पर रिटायर भी हो जाते हैं कुछ लोग 35 साल पर नौकरी शुरू करते है और 60 साल में रिटायर होते हैं।

एक जवान इंसान एक्सीडेंट में मर जाता है और एक बीमार बुढा 90 साल की उम्र तक जीता रहता है।

क्यों????

क्योंकी हम सब अपने समय के दायरे में चलते हैं। हम अपना जीवन सिर्फ अपने समय के परिपेक्ष्य में जी सकते हैं किसी दूसरे के नही।

कभी कभी आपको लगता होगा आपके मित्र, भाई बहन आपसे आगे निकल गए और कभी आप कुछ लोगों से आगे निकल गये वो इसलिये की हममे से हर एक के समय की गति अलग है।

हम सभी को जीवन मे अपने समय मे ,अपनी गति से और अपने मार्ग से चलना होता है। इश्वेर ने हम सब के लिए एक व्यक्तिगत खाका तैयार किया है जो किसी दूसरे से अलग है

हमारी गति अलग है हमारा समय अलग है।

मोदी जी 8 साल की उम्र से RSS में थे किंतु 50 साल की उम्र में पहली बार MLA फिर CM बने ,योगी जी 26 साल की उम्र में MP बन गए और 44 साल की उम्र में CM!!

राजीव गांधी 40 साल की उम्र में प्रधान मंत्री बने और 46 साल की उम्र में मर गए मोरारजी देसाई 81 साल की उम्र में प्रधानमंत्री बने और 99 साल की उम्र में मरे!!

55साल की उम्र में ओबामा रिटायर हो गये और 70 साल की उम्र में डोनाल्ड ट्रम्प ने अपना कार्यकाल शुरू किया!!

जब 20साल का एक इंसान जवान कहा जाता है तो कुते के लिए वो आखिरी समय होता है।

जब हम एक ही दिन में रात व दिन महसूस करते हैं तो उत्तरी ध्रुव पर रहने वाले एस्किमो 6 महीने तक सिर्फ रात व 6 महीने तक सिर्फ दिन में रहते हैं तो क्या एक साल उनके लिए एक दिन व एक रात हैं?

घड़ियां कितनी भी हों समय एक ही होता है किंतु आपका व हमारा समय हमें अलग अलग परिणाम देता है।

कोई हमसे आगे है पीछे इससे कोई फर्क नही पड़ता क्योंकि हमें अपने समयनुसार चलना होता है।

किसी से अपनी तुलना मत करिये अपने समय के साथ चलिये।

कुछ देर नही हुई है..!!!

ना आपकों नौकरी मिलने में
ना शादी होने में
ना बच्चा होने में
ना प्रमोशन में
ना गाड़ी खरीदने में
ना घर खरीदने में
ना इन्क्रीमेंट बढ़ने में

जिस समय आप बुरे समय को कोस रहे होते हैं समय उस वक़्त भी चल रहा होता है जिस समय आप अच्छे वक़्त में ठहाके लगा रहे होते हैं समय उस वक़्त भी चल रहा होता है।

आपको भले ही लगे देर हो रही है किंतु समय जानता है की उसे कब आना है

ना तो देर हुई हैं ना ही कोई जल्दी है ,क्योंकि आपका समय अपने समय पर ही आएगा

बस !!भरोसा रखिये!!!

We are a shadow of our thoughts

positivity

दक्षिण प्रशांत महासागर में एक द्वीप संग्रह है जिसका नाम *सोलोमन आइलैंड है, वहां पर एक विचित्र परंपरा है।

वहाँ के आदिवासी किसी पेड़ को कुल्हाड़ी या आरी से नही काटते बल्कि जब किसी पेड़ को काटना होता है यो उसके गिर्द घेरा बनाकर प्रतिदिन उसे घंटो तक कोसते हैं

कुछ ही हफ्तों में पेड़ सूख जाता है व मर जाता है और फिर वो उसे उखाड़ देते हैं।

हममे से कुछ लोगों को ये विश्वास होना मुश्किल है की कैसे अमूर्त व अदृश्य विचार किसी पेड़ को मार सकते हैं?

अगर हम ये मानते हैं की पेड़ पौधों में भी जान होती है तो शायद उन पर बुरे विचारों व श्राप का असर होता होगा।

मैँ ये उदाहरण विज्ञान को चुनोती देने के लिये नही बात रही हूँ अपितु सिर्फ इस बात पर ध्यान दिलाने के लिए की हंमारे शब्दों व विचारों में किस प्रकार की ताकत होती है

इस ताक़त का उपयोग हम सकारात्मक व नकारात्मक दोनों ही रूपों में कर सकते हैं

हमारा अचेतन मन यानी subconscious mind, हमारे चेतन मन यानी conscious mind से कई गुना शक्तिशाली होता है और इसका प्रत्यक्ष असर हंमारे जीवन पर देखने को मिलता है।

कुछ माँ बाप अपने बच्चों को सदैव कोसते रहते हैं की वो कुछ ठीक से नही कर सकते यकीन मानिए ये सुनते सुनते वो बच्चे ये मान लेते हैं की वो सचमुच कुछ ठीक से नही कर सकते।

एक लड़की हमेशा से सुनती आती है की ससुराल एक बंधन है व सास ससुर उसे कभी प्यार नही कर सकते ,यकीन मानिये वो लड़की दुनिया के सबसे प्यार करने वाले ससुराल में भी दुख ढूंढ लेगी।

यदि कोई इंसान सैदव अपनी गरीबी का रोना रोता रहता है तो वो कभी अपने जीवन मे आपने वाली उपलब्धियों की ओर गौर नही करेगा।

कुछ लोग हमेशा बीमारी का गाना गाते रहते हैं उन्हें एक छींक आने से भी बीमारी का डर सताने लगेगा।

कुछ लोगों में ईर्ष्या इतनी होती है की यदि वो किसी अनजान को भी हँसते देख लें तो वो कुढ़ कुढ़ कर अपना दिन खराब कर लेते हैं।

कुछ लोग बुरी आदतों के शिकार होते हैं व ये जानते हुए भी वो उसे नही छोड़ते क्योंकी उसने उनके अचेतन मन पर कब्ज़ा किया हुआ है ।

हमारा चेतन मन हंमारे अचेतन मन की छाया होता है

इसलिये जब सोलोमन आइलैंड के लोग पेड़ को श्राप दे रहे होते हैं तो वो अपने मन की सारी कुंठा, हताशा, क्रोध, निराशा व दुःख उस पेड़ को देने लगते हैं और पेड़ धीरे धीरे उसे आत्मसात करने लगता है और उसकी अणु संरचना प्रभावित होते लगती है।(The biology of belief -Brouse H.Lipton)

यह हमारे साथ भी होता है,यदि हम निराशात्मक प्रकृति वाले लोगों के बीच रहते हैं तो उनकी कुंठा,निराशा व नेगेटिविटी धीरे धीरे हमारे मन मे भी जगह बना लेती है और हमारे अच्छे विचार प्रभावित होने लगते हैं ,कुछ दिन बाद हम भी उन्ही के जैसा सोचने लगते हैं ।

2500 वर्ष पहले गौतम बुद्ध ने कहा था
” आप अपने स्वयं विचारों का फल हैं”

कृपया अपने बच्चों को जो नही कर सकते उसके लिए कोसिए मत लेकिन जो कर सकते हैं उसकी प्रेरणा ज़रूर दीजिये। आपके बच्चे आपका प्यार हों, आपकी जायदाद नही।

इसी के साथ अपने आप को भी मत कोसिये वरना आप वही बन जाएंगे जो आप नही बनना चाहते।

नकारतात्मक सोच वाले लोगों की संगत से बचिये।वो आपको जीवन मे नीचे लाने के सिवाय कुछ नही करेंगे।

 

 

 

The Real Progress

download (1)

भारत उपलब्धियों का देश है इसमें कोई संदेह नही किन्तु पिछले 300 वर्ष में अगर तरक्की का मूल्यांकन किया जाये तो हम पाएंगे कि क्या वजह है जो पश्चिम हमसे आगे निकल गया।

यहॉ मैँ आध्यत्मिक या धार्मिक तरक्की की नही अपितु ,भौतिक, राष्ट्रीय व भौगोलिक तरक्की की बात कर रही हूँ

ये संदेश हिन्दू और मुसलमान दोनो के ही लिए है जब वो भारत की तरक्की में अपना अपना योगदान गिनाते हैं तो उन्हें ये सब भी जानना चाहिये।

यदि हम 250 वर्ष का इतिहास खंगाले तो पता चलता है , कि आधुनिक विश्व यानी 1800 के बाद , जो दुनिया मे तरक़्क़ी हुई , उसमें पश्चिमी मुल्को यानी यहूदी और ईसाई लोगो का बहुत बड़ा हाथ है !

हिन्दूओं और मुस्लिमो का इस विकास मे 1% का भी योगदान नही है !
हॉं !!…इतिहास में हमपर कितनी बार आक्रमण हुआ इससे किताबों के पन्ने रंगे पड़े हैं। ये गौरव की नही बल्कि शर्म की बात है की ना जाने कितनी विदेशी ताकतों ने हमे गुलाम बनाया, कुछ तो कमी रही होगी हमारे अन्दर!!

1800 से लेकर 1940 तक हिंदू और मुसलमान सिर्फ बादशाहत या गद्दी के लिये लड़ते रहे !हम आज़ादी के लिए तो लड़ते रहे लेकिन तरक्की के लिए लड़ना ज़रूरी नही समझा!

अगर आप दुनिया के 100 बड़े वैज्ञानिको के नाम लिखें , तो बस दो चार हिन्दू और मुसलमान के मिलेंगे ! बाक़ी सब पश्चिम देशों के हैं वो इसलिये की हमने अपने देश के वैज्ञानिकों को साधन व सहायता उपलब्ध कराना जरूरी नही समझा। नोबल पुरूस्कार पाने वालों में से कितने हिन्दू और मुसलमान हैं?

पूरी दुनिया मे 61 इस्लामी मुल्क है , जिनकी जनसंख्या 1.50 अरब के करीब है लेकिन कुल 435 यूनिवर्सिटी है !
दूसरी तरफ हिन्दू की जनसंख्या 1.26 अरब के क़रीब है लेकिन लगभग 385 ही यूनिवर्सिटी है !
इधर अकेले अमेरिका मे 3 हज़ार से अधिक और छोटे से देश जापान मे 900 से अधिक यूनिवर्सिटी है !

ईसाई दुनिया के 45% नौजवान यूनिवर्सिटी तक पहुंचते हैं ! वहीं मुसलमान नौजवान मुश्किल से 2% और हिन्दू नौजवान करीब 8 % से 10% उच्च शिक्षा ग्रहण करते हैं !

दुनिया के 200 बड़ी यूनिवर्सिटी मे से 54 अमेरिका में, 24 इंग्लेंड में ,17 ऑस्ट्रेलिया में ,10 चीन में, 10 जापान में ,10 हॉलॅंड में, 9 फ़्राँस में ,8 जर्मनी में , सिर्फ 2 भारत और 1 इस्लामी मुल्क में हैं !

आज़ादी से पहले हर उच्च शिक्षित भारतीय विदेश से शिक्षा ग्रहण करके आता था चाहे वो गांधी हों ,नेहरू हों या अंबेडकर। इस सभी ने कभी इस बात पर चर्चा नही की की भारत की एक मौलिक शिक्षा प्रणाली होनी चाहिए जो हमारे देश,समाज, संस्कृति व ज़रूरतों को मद्देनजर रखकर हो । आज भी हम अंग्रेजों द्वारा डिज़ाइन की गई शिक्षा प्रणाली को फेर बदलकर चला रहे हैं।

आज भी हमारी शिक्षा पद्धति सिर्फ नौकरों की फ़ौज तैयार करती है, जिसे प्राप्त करके युवा सिर्फ नौकरी ढूंढ सकते हैँ उद्योग व व्यवसाय करके स्वालंबी नही हो सकते।
लाखों रुपये की बिज़नेस की डिग्री हाँसिल कर युवा कुछ हज़ार रुपये की नौकरी ढूँढते हैं अपना व्यवसाय नही लगा सकते!

चलिये अब आर्थिक रूप से देखते है………..

अमेरिका का जी. डी. पी 14.9 ट्रिलियन डॉलर है !
जबकि पूरे इस्लामिक मुल्को का कुल जी. डी. पी 3.5 ट्रिलियन डॉलर है !
वहीं भारत का 1.87 ट्रिलियन डॉलर है !
दुनिया मे इस समय 38,000 मल्टिनॅशनल कम्पनियाँ हैं ! इनमे से 32000 कम्पनियाँ सिर्फ अमेरिका और युरोप में हैं !

आधुनिक दुनिया के 15,000 बड़े अविष्कारों मे 6103 अविष्कार अकेले अमेरिका में और 8410 अविष्कार ईसाइयों या यहूदियों ने किये हैं ! वो इसलिये की अभी भी तकनीकी व साइंस डिग्रियों में चल रही है कुछ नया ईजाद करने के लिये नही।

दुनिया के 50 अमीरो में 20 अमेरिका, 5 इंग्लेंड, 3 चीन , 2 मक्सिको , 2 भारत और 1 अरब मुल्क से हैं ! हमारे यहां अमीर होने का दिखावा तो है किंतु टैक्स के डर से खातों में सब अपने को गरीब दिखाते हैं!

अब बात करते हैं हिन्दू और मुसलमान जनहित , परोपकार या समाज सेवा मे भी ईसाईयों और यहूदियों से पीछे हैं !
आज रेडक्रॉस दुनिया का सब से बड़ा मानवीय संगठन है , इस के बारे मे बताने की जरूरत नहीं है !
बिल गेट्स ने अकेले ही 10 बिलियन डॉलर जो उनकी की करीब 90% संपत्ति है से बिल- मिलिंडा गेट्स फाउंडेशन की बुनियाद रखी , जो कि पूरे विश्व के 8 करोड़ बच्चो की सेहत का ख्याल रखती है ! हमारे यहाँ लोग NGO इसलिय खोलते हैं जिससे अवैध फंडिंग मिल सके…
भारत में बहुत से अरबपति हैं !
मुकेश अंबानी अपना घर बनाने मे 4000 करोड़ खर्च कर सकते हैं ,अम्बानी बहुएं 5स्टार और 7 स्टार स्कूल पूंजीपतियों के बच्चों के लिए चलाती हैं लेकिन भारत के गरीब बच्चों के नाम पर दो चार NGO को दान देकर बरी हो जाती हैं अरब का अमीर शहज़ादा अपने स्पेशल जहाज पर 500 मिलियन डॉलर खर्च कर सकते हैं !
हमारे दलित नेता लाखों रुपये की गाड़ियों में चलते हैं लेकिन अपने वर्ग के गरीबों के उत्थान का ठेका सरकार से ही उठाते हैं।
मानवीय सहायता के लिये भी पूंजीपति आगे नही आ सकते हैं !

ओलंपिक खेलों में भी अमेरिका ही सब से अधिक गोल्ड जीतता है , हम खेलो में भी आगे नहीं ! हमारे बहुत से खिलाड़ियों को अपने खेल के साधन भी खुद ही जुटाने पड़ते हैं। पिछले दिनों भारत की पहली महिला आइस हॉकी की टीम ने इंटरनेट पर चंदा इक्कठा करके अपने बूते से विश्व् कप खेलने के लिए गई!

हम अपने अतीत पर चाहे जितना गर्व करें किन्तु व्यवहार से अत्यधिक स्वार्थी ही है ! हम आपस में लड़ने पर ही अधिक विश्वास रखते हैं !मानसिक रूप में आज भी हम विदेशी व्यक्ति से अधिक प्रवाभित हैं ! अपनी संस्कृति को छोड़ कर , विदेशी संस्कृति अधिक अपनाते हैं !सिर्फ हर हर महादेव और अल्लाह हो अकबर के नारे लगाने मे , हम सबसे आगे हैं !जरा सोचिये , कि हमें किस तरफ अधिक ध्यान देने की जरुरत है ! क्यों ना हम भी दुनिया में मजबूत स्थान और भागीदारी पाने के लिए प्रयास करें , बजाय विवाद उत्पन्न करने के और हर समय जात पात में उलझने के , खुद कि और देश की ऊन्नती पे ध्यान दे !समाज की जागृती का जिम्मा कुछ व्यक्तियो का ही नही बल्कि सभी जागरूक और विवेकशील नागरिकों के लिए भी उतना ही ज़रूरी है ।